मध्यप्रदेश— रायसेन में लोकायुक्त पुलिस ने केसीसी सीमा बढाने के लिए रिश्वत का मामला दर्ज किया

रायसेन। मप्र ग्रामीण बैंक सिलारी खुर्द के प्रबंधक अंकित मिश्रा पर केतौघान निवासी दो किसान भाइयों की किसान क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ाने के लिए 18000 हजार रुपए रिश्वत मांगने पर लोकायुक्त पुलिस ने मामला दर्ज किया है। प्रबंधक ने किसानाें से रिश्वत की राशि अपने ड्राइवर को देने के लिए कहा था।

जानकारी के अनुसार बैंक प्रबंधक द्वारा रिश्वत मांगने की शिकायत लोकायुक्त को की गई थी। छोटे राम लोधी पुत्र शुम्मा लाल लोधी निवासी केतौघान ने 27 अक्टूबर को शिकायत में कहा था कि गांव में उसकी और भाई खेमचंद की 4-4 एकड़ मिलाकर कुल 8 एकड़ कृषि भूमि हैं। किसान क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढाने के लिए मैनेजर 18000 की रिश्वत मांग रहे हैं। इस पर लोकायुक्त की टीम दोपहर 2.30 बजे सिलारी गांव पहुंची। वहां बैंक प्रबंधक मिश्रा के ड्राइवर हेमंत धाकड़ ने बैंक से बाहर आकर किसान छोटेराम लोधी से 18000 रुपए लेकर अपनी जेब में रख लिए। रिश्वत की राशि लेकर ड्राइवर हेमंत बैंक प्रबंधक अंकित मिश्रा पास पहुंच गया। लोकायुक्त भोपाल के डीएसपी संजय जैन ने बताया कि जब ड्राइवर हेमंत धाकड़ के हाथ धुलवाए गए तो रंग गुलाबी हो गया। हेमंत ने बताया कि अंकित मिश्रा ने ही उससे पैसे लेने के लिए कहा था। इस मामले में कार्रवाई के बाद आराेपी शाखा प्रबंधक पुत्र सुभाष मिश्रा 27 वर्ष हाल निवासी उदयपुरा स्थाई निवासी लश्कर ग्वालियर पर भ्रष्टाचर निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया गया। ड्रायवर हेमंत धाकड़ निवासी ग्राम कोश बरेली, उदयपुरा को सह आरोपी बनाया गया है। यह कार्रवाई दोपहर 3 बजे से लेकर रात 8 बजे तक चलती रही। इसमें एसआई नीलम पटवा सहित 10 पुलिस कर्मचारी शामिल रहे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.