न्यौता बहके फागुन का— याज्ञवल्क्य

शुभ चौपाल: होली विशेष— तीन

बदला—बदला—सा लगता है
रंग—ढंग मेरे अंगन का।
मादक हुई बयार सुहानी
महुआ महका है मन का।होश नहीं, बेहोश नहीं पर
मदहोशी में सोच रहे,
सच कहना,क्या भेजा तुमने
न्यौता बहके फागुन का।
—याज्ञवल्क्य

www.facebook.com/Yagyawalkya-313349052121709/
https://www.youtube.com/channel/UC3_12ijfzUlovFOSpt8AbwQ

होली विशेष

रंग पर्व पर ‘शुभ चौपाल’ रंग पंचमी तक अपने पाठकों के लिए विविध रंगों से सराबोर करता रहेगा। इन रंगों का आनंद उठाते रहिए।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.