छत्तीसगढ़— अमित जोगी और उनकी पत्नी का नामांकन रद्द

पेंड्रा(रायपुर)। जोगी परिवार अपने परंपरागत क्षेत्र मरवाही से चुनाव से बाहर हो गया है। शनिवार को जाति को लेकर छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस अध्यक्ष अमित जोगी और उनकी पत्नी ऋचा जोगी के नामांकन चुनाव अधिकारी ने रद्द कर दिए। राज्य स्तरीय उच्च जांच कमेटी ने अमित का जाति प्रमाण पत्र रद्द कर दिया था।

जिला चुनाव कार्यालय में उच्चस्तरीय समिति अमित जोगी का जाति प्रमाण पत्र रद्द किए जाने का पत्र भेजा जिसमें उन्हें कंवर जाति का नहीं माना। यह आदेश एक दिन पहले 16 अक्टूबर को ही जारी किया गया। समिति इससे पहले अमित जोगी के पिता और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का जाति प्रमाण पत्र भी रद्द कर चुकी है।

अमित की जाति को को लेकर एक घंटे बहस के बाद चुनाव अधिकारी ने उनका नामांकन खारिज कर दिया। इसके बाद ऋचा जोगी के नामांकन को लेकर भी विवाद होता रहा। आखिरकार चुनाव अधिकारी ने ऋचा के नामांकन को भी कानूनी तौर पर सही नहीं माना और उसे भी खारिज करने के आदेश जारी कर दिए।

छत्तीसगढ़ बनने के बाद पहली बार ऐसा हुआ है, जब पूरा जोगी परिवार मरवाही चुनाव से बाहर है। जांच समिति ने कहा कि 20 से 23 सितंबर को डाक के जरिए अमित जोगी को नोटिस भेजा गया था। यह भी तर्क दिया कि अजीत जोगी को कंवर नहीं माना था। अभी बेटे की जाति पिता की जाति से तय होती है। ऐसे में अमित जोगी को कंवर नहीं माना जा सकता है। अजीत जोगी के भी जाति प्रमाणपत्र को समिति ने निरस्त कर दिया था। मामला कोर्ट में लंबित था, उसी समय अजीत जोगी का निधन हो गया। उनके निधन के बाद यह सीट खाली हुई। छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जेसीसीजे) के अध्यक्ष अमित जोगी और उनकी पत्नी ऋचा जोगी के अलावा उनकी पार्टी के दो और उम्मीदवारों ने नामांकन भरा था। जोगी परिवार को पहले से आशंका थी कि उनके जाति प्रमाणपत्र का विवाद मरवाही उपचुनाव में खलल डाल सकता है। इसे देखते हुए पुष्पेश्वरी तंवर और मूलचंद सिंह का भी नामांकन कराया गया। अब अमित और ऋचा का पर्चा निरस्त होने के बाद पार्टी तंवर और मूलचंद में से किसी एक को चुनाव लड़ने की हरी झंडी देगी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.